Posted in English Poems

Clementine Von Radics 2

2.पेश है Clementine Von Radics की कविता के कुछ अंश

When you are 13 years old, 

the heat will be turned up too high

and the stars will not be in your favor. 

You will hide behind a bookcase

with your family and everything left behind. 

You will pour an ocean into a diary. 

When they find you, you will be nothing

but a spark above a burning bush, 

still, tell them

Despite everything, I really believe people are good at heart.

There will always being those 

who say you are too young and delicate 

to make anything happen for yourself. 

They don’t see the part of you that smolders.

Don’t let their doubting drown out the sound 

of your own heartbeat.

You are the first drop of a hurricane.

Your bravery builds beyond you. You are needed

by all the little girls still living in secret, 

writing oceans made of monsters and

throwing like lightening.

You don’t need to grow up to find greatness.

You are stronger than the world has ever believed you to be.

The world laid out before you to set on fire.

All you have to do

is burn.

Advertisements
Posted in English Poems

Clementine Von Radics 1

क्लेमेंटाइन वोन रेदिक्स(Clememtine Von Radics) मेरे लिए एक नया नाम था,जब परिचय हुआ तो उनकी एक कविता पढने को मिली “Mouthful of Forevers.जैसे ही ये पढ़ी,लगा की और पढ़नी चाहिए,शब्दों का सटीक चयन और मानो फीलिंग्स को पोएट्री में घोल दिया गया हो।

उनकी दो खुबसूरत पोइम्स शेयर कर रहा हूँ नीचे,लेकिन पहले परिचय।

वोन रेदिक्स अभी सिर्फ 26 साल की हैं और सोशल साईट tumblr पर बहुत पढ़ी भी जाती हैं,उनकी कविता के नाम पे ही एक किताब भी आयी The mouthful of Forevers जो अमेज़न पर बेस्टसेलर भी रही।

वोन रेदिक्स की पोइम्स में प्यार,टीन एजेर्स,जीवन की खूबसूरती के बारे बार बार ज़िक्र होता है,

1.उनकी पहली पोईम Mouthful Of Forevers

I am not the first person you loved.

You are not the first person I looked at

with a mouthful of forevers. We

have both known loss like the sharp edges

of a knife. We have both lived with lips

more scar tissue than skin. Our love came

unannounced in the middle of the night.

Our love came when we’d given up

on asking love to come. I think

that has to be part

of its miracle.

This is how we heal.

I will kiss you like forgiveness. You

will hold me like I’m hope. Our arms

will bandage and we will press promises

between us like flowers in a book.

I will write sonnets to the salt of sweat

on your skin. I will write novels to the scar

of your nose. I will write a dictionary

of all the words I have used trying

to describe the way it feels to have finally,

finally found you.

And I will not be afraid

of your scars.

I know sometimes

it’s still hard to let me see you

in all your cracked perfection,

but please know:

whether it’s the days you burn

more brilliant than the sun

or the nights you collapse into my lap

your body broken into a thousand questions,

you are the most beautiful thing I’ve ever seen.

I will love you when you are a still day.

I will love you when you are a hurricane


अगली पोइम अगले पोस्ट में…………….


Courtesy-clementinevonradicspoems.tumblr.com




Posted in स्वरचित

मेरी रचना

मुझे गिरा कर आखिर कब तलक खड़ा होगा

एक दिन इसी मिट्टी में मेरे साथ पड़ा होगा।

.

डर लगता है बड़े छायादार पेड़ो से मुझको बहुत

ये महफूज़ पौधा पीपल की छाँव में कैसे बड़ा होगा।

.

उसकी बातो में खो क्यूँ जाते हो इतनी जल्दी

भूल जाते हो ज्यादा मीठा है,अंदर से सड़ा होगा।

.

रात में चाँद को निहारने में घबराता है वो शख्स

कई दिनों से रोटी के बिन सड़क पर पड़ा होगा।

.
मैं अब खुद ही किनारे हो जाता हूँ सड़को पर

कौन जाने कब किस बाहुबली से झगड़ा होगा।

Posted in Hindi Urdu Poems

दूसरा वनवास- कैफ़ी आज़मी

  • राम जन्म भूमि का मुद्दा आजकल बहुत चर्चा में है,राम जन्म भूमि पर क्या फैसला आयेगा यह तो वक्त बतायेगा परन्तु बाबरी ढाँचे के गिरने के बाद कैफ़ी आज़मी द्वारा,लिखी गयी यह बेहतरीन नज्म आपके सामने पेश है।

राम बनवास से जब लौटकर घर में आये

याद जंगल बहुत आया जो नगर में आये

रक्से-दीवानगी आंगन में जो देखा होगा

छह दिसम्बर को श्रीराम ने सोचा होगा

इतने दीवाने कहां से मेरे घर में आये
धर्म क्या उनका है, क्या जात है ये जानता कौन

घर ना जलता तो उन्हें रात में पहचानता कौन
घर जलाने को मेरा, लोग जो घर में आये

शाकाहारी हैं मेरे दोस्त, तुम्हारे ख़ंजर

तुमने बाबर की तरफ़ फेंके थे सारे पत्थर

है मेरे सर की ख़ता, ज़ख़्म जो सर में आये
पाँव सरयू में अभी राम ने धोये भी न थे

कि नज़र आये वहाँ ख़ून के गहरे धब्बे

पाँव धोये बिना सरयू के किनारे से उठे

राम ये कहते हुए अपने दुआरे से उठे

राजधानी की फज़ा आई नहीं रास मुझे

छह दिसम्बर को मिला दूसरा बनवास मुझे।