Posted in Uncategorized

पहली दफा…

कल रात आउटिंग हास्टल की,

वो चमचमाता नैनीताल, आज से पहले न देखा था;

और ताल में चमचमाती परछाई,

देखी थी पहली दफा…

टूरिस्ट्स से लबालब ज़ूमलैण्ड,

रात ही रौशनी में अलग ही चमकता था,

हर किनारे की रोशनी, वो शाम की मासूमियत;

देखी थी पहली दफा…

और आज हाॅस्टल खुले बिना,

कुकी* और मेरा पिछले गेट से बाहर आना,

और मेन गेट कूदकर पार करना,

तीन सालों में ये आजादी, आज;

देखी थी पहली दफा…

जहाँ कल रात देखा चमचमाता तिब्बती बाजार,

वहाँ सुबह की नरम हवाएँ हैं, 

सादगी परिपूर्ण नैनीताल, 

सोकर उठी नैना देवी, आज ;

देखी थीं पहली दफा….

ताल में अलग ही ठहराव,

सूरज की रोशनी छेड़ रही थी इस ठहराव को,

ताल किनारे बैठ ये प्रेम कहानी, आज;

देखी थी पहली दफा…

इस पार अरविन्द मार्ग*,

और मन्दिरों की वो सात्विक गन्ध,

यूँ तो हर क्षण शोर की गोद में मालरोड,

शोर बिना ये मालरोड, आज;

देखी थी पहली दफा…

रात को सौन्दर्य चहल पहल का,

अभी  सादगी भरा नैनीताल,

एक ही रुप में दो आभाएँ, आज;

देखीं थीं पहली दफा……

कुकी – सहेली का प्यार भरा नाम

अरविन्द मार्ग-  नैनीताल की प्रसिद्ध ठण्डी सड़क

Author:

लिखने की शौकीन हूँ, अक्षरों से खेल रही हूँ, बहुत जल्द शब्दों की बारी है, फिर पन्नों की तैयारी है...

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s