Posted in स्वरचित

मोती शब्दों के

वो समय कुछ और था, जब पन्नों पर मोती चमकते थे;

अब मोबाइल की स्क्रीन पर टिप टिप आवाज करते हैं…..

Advertisements

Author:

लिखने की शौकीन हूँ, अक्षरों से खेल रही हूँ, बहुत जल्द शब्दों की बारी है, फिर पन्नों की तैयारी है...

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s